Essay On Life Story Of Guru Tegh Bahadur Ji In Hindi In 500+ Words

Essay On Life Story Of Guru Tegh Bahadur Ji In Hindi In 500+ Words

हेलो फ्रेंड, इस पोस्ट “Essay On Life Story Of Guru Tegh Bahadur Ji In Hindi In 500+ Words” में हम एक निबंध के रूप में गुरु तेग बहादुर जी की जीवन गाथा के बारे में विस्तार से पढ़ेंगे। तो

चलिए शुरू करते हैं…

Essay On Life Story Of Guru Tegh Bahadur Ji In Hindi In 500+ Words

हमारे समाज को हमेशा ऐसे महापुरुषों की जरूरत रही है जिनके बलिदान हमें अपने प्राण त्यागने के लिए प्रेरित करते हैं और सत्य का साथ जीवन के अंतिम क्षण तक देने के लिए प्रेरित करते हैं.

महापुरुषों में से एक महान बलिदानी “गुरु तेग बहादुर जी” भी थे। गुरु तेग बहादुर जी ने खुद के बारे में सोचें बिना दूसरों के अधिकारों और आस्था की रक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी।

गुरु तेग बहादुर का जन्म 1 अप्रैल 1621 को अमृतसर में हुआ था और बचपन में उनका नाम “त्यागमल” रखा गया था। एक योद्धा के रूप में, उन्हें मार्शल आर्ट, तलवारबाजी और घुड़सवारी में प्रशिक्षित किया गया था।

लेकिन विभिन्न युद्धों में अपने पिता के साथ एक सक्षम सेनानी होने के बावजूद, वे त्याग और ध्यान का मार्ग चुनते प्रतीत होते थे।

1633 में उनका विवाह माता गुजरी से हुआ था। 1656 में, वे बकोला नाम के गाँव में चले गए जहाँ तेग बहादुर चिंतन और प्रार्थना में बहुत समय बिताते थे।

गुरु तेग बहादुर सिखों के नौवें गुरु थे, जो सिखों के पहले गुरु “गुरु नानक देव” द्वारा निर्धारित मार्ग का अनुसरण करते थे। उन्होंने 115 काव्य भजनों की रचना की जो गुरु ग्रंथ साहिब के पाठ में हैं।

उन्होंने मानव कल्याण और परोपकार के लिए कई काम किए जैसे कुएं खोदना, धर्मशाला बनाना आदि। इसके साथ ही, उन्होंने आध्यात्मिक, सामाजिक, आर्थिक क्षेत्रों में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया।

भारत का मुगल बादशाह औरंगजेब भारत को एक इस्लामिक राष्ट्र के रूप में एकजुट करना चाहता था। औरंगजेब इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए भारत से हिंदू धर्म को लगभग मिटाने की ठानी।

Read Also:

Essay On Childhood Of Guru Tegh Bahadur Ji In 500+ Words

Essay On Guru Tegh Bahadur Ji In 500+ Words

Essay On Guru Tegh Bahadur Ji In Hindi In 500+ Words

Essay On Life Story Of Guru Tegh Bahadur Ji In 500+ Words

जब नौवें गुरुजी को हिंदुओं के एक पीड़ित समूह से यह पता चलता है, तो उन्होंने सम्राट को चुनौती देते हुए कहा कि सभी हिंदुओं को परिवर्तित करने से पहले, गुरु को स्वयं इस्लाम स्वीकार करवाना होगा। एवं गुरु तेग बहादुर जी हिंदुओं के धर्म के खातिर अपने प्राण तक त्याग दिए.

परिणामस्वरूप, 1675 में गुरु को औरंगजेब के आदेश पर कैद कर लिया गया। गुरु के साथ तीन धर्मनिष्ठ सिख भाई, मालती दास, सती दास और दयाला जी को गिरफ्तार कर लिया गया और दिल्ली में गुरु तेग बहादुर साहब जी शहीद हो गए।

औरंगजेब ने गुरु तेग बहादुर जी को तीन विकल्प दिए एवं गुरुजी ने मानने से इंकार कर दिया. पहला विकल्प इस्लाम अपनाना था, दूसरा विकल्प कोई चमत्कार दिखाना था एवं तीसरा विकल्प मौत को चुना था.

गुरु तेग बहादुर जी ने हंसते-हंसते मौत को चुना क्योंकि चमत्कार दिखाना तो केवल ईश्वर के हाथ में है. 11 नवंबर, 1675 को दिल्ली के चांदनी चौक पर धर्म एवं मानव अधिकारों की रक्षा करते हुए गुरु तेग बहादुर जी शहीद हो जाते हैं.

इस पोस्ट “Essay On Life Story Of Guru Tegh Bahadur Ji In Hindi“, को पढ़ने के लिए धन्यवाद.

Also Read:

Essay On Childhood Of Guru Tegh Bahadur Ji In 500+ Words

Essay On Guru Tegh Bahadur Ji In 500+ Words

Short Paragraph On My Experience Of Online Classes During

Leave a Comment