Essay On Guru Tegh Bahadur Ji In Hindi In 500+ Words | गुरु तेग बहादुर जी पर निबंध हिंदी में

Essay On Guru Tegh Bahadur Ji In Hindi In 500+ Words | गुरु तेग बहादुर जी पर निबंध हिंदी में

नमस्कार दोस्तों, इस पोस्ट “Essay On Guru Tegh Bahadur Ji In Hindi In 500+ Words | गुरु तेग बहादुर जी पर निबंध हिंदी में“ में, हम एक निबंध के रूप में गुरु तेग बहादुर जी के बारे में विस्तार से पढ़ेंगे। तो…

चलो शुरू करते हैं…

Essay On Guru Tegh Bahadur Ji In Hindi In 500+ Words | गुरु तेग बहादुर जी पर निबंध हिंदी में

“धरम हेत साका जिनि कीया
सीस दिया पर सिरड न दीया”

इस महावाक्य को सार्थक करने वाले थे-सिक्खों के नवें गुरु “गुरु तेग बहादुर जी” |

उन्होंने पहले गुरु “गुरु नानक” द्वारा सिखाए गए मार्ग का अनुसरण किया। उनके द्वारा रचित 115 श्लोक गुरु ग्रंथ साहिब में शामिल हैं।

अमृतसर की पवित्र भूमि पर जन्मी ऐसी पुण्य आत्मा, शांति के पुंज, त्याग और वैराग्य की मूर्ति, जिन्होंने मानवता के कल्याण और धर्म की रक्षा के लिए बलिदान दिया।

वह एक बहादुर युवक के रूप में बड़ा हुए और मुगलों के खिलाफ लड़ाई में काफी साहस दिखाया।

उनके पिता ने उनकी बहादुरी के लिए उन्हें “गुरु तेग बहादुर जी” की उपाधि दी, जिसका अर्थ है “तलवार के पराक्रमी”।

उन्होंने खुद तो कुर्बानी दी ही, और देश-दुनिया के लिए उनका पूरा परिवार भी कुर्बान हो गया है।

व्यक्ति के लिए अपने और अपने परिवार के कल्याण के लिए पीड़ित होना आम बात है, लेकिन जब कोई निस्वार्थ भाव से दूसरों के कल्याण के लिए बलिदान देता है, तो यह एक असाधारण बात है।

हिंदुत्व की रक्षा के लिए उन्होंने हंसते हुए सिर कटा लिया। उन्होंने मुगलों के सामने सिर नहीं झुकाया और उनके मुस्लिम धर्म को स्वीकार नहीं किया।

अपनी बात पर अडिग रहें। धन धन है ऐसी महान आत्मा है… आप समझ ही गए होंगे कि हम किसकी बात कर रहे हैं।

Read Also:

Essay On Guru Tegh Bahadur Ji In 500+ Words In English

Essay On Life Story Of Guru Tegh Bahadur Ji In 500+ Words

Essay On Guru Tegh Bahadur Ji Life And Teachings In 350+ Words

Play Script Writing An Important Event Of Guru Tegh Bahadur

हम बात कर रहे हैं “हिंद की चादर” और सिखों के 9वें गुरु “गुरु तेग बहादुर जी” की।

गुरु तेज बहादुर जी का जन्म 1 अप्रैल 1621 को छठे सिख गुरु हरगोबिंद साहिब जी और माता नानकी जी के घर हुआ था।

अमृतसर में वह स्थान अब गुरुद्वारा (गुरु का महल) के नाम से जाना जाता है।

गुरु तेग बहादुर जी के चार भाई थे:- बाबा गुरु दित्ता जी, बाबा सूरजमल जी, बाबा अनी राय जी, बाबा अटल राय जी और बहन बीबी वीरो जी। उनके बचपन का नाम “त्यागमाल” था। वह बहुत होनहार, शांत स्वभाव और धार्मिक थे।

उनकी उम्र 5 साल होते ही, उन्होंने भाई गुरदास जी और बाबा बुद्ध जी से शास्त्र सीखे।

इसके साथ ही उन्होंने घुड़सवारी और हथियार चलाना भी सिखा।

वह तलवार चलाने में कुशल थे, वह अक्सर अपने पिता के साथ शिकार करने जाया करते थे

14 साल की उम्र में अपने पिता के नेतृत्व में उन्होंने मुगलों के खिलाफ युद्ध लड़ा और अपनी तलवार का जौहर दिखाकर पांडे खां पर विजय प्राप्त की।

और डरे सहमे गाँव के लोगों को मुगलों के अत्याचार से मुक्त कराया।

युद्ध में उनके कौशल को देखकर उनके पिता ने उनका नाम “त्यागमाल” से बदलकर “गुरु तेग बहादुर जी” कर दिया।

उनका विवाह 14 सितंबर 1632 को करतारपुर निवासी की बेटी माता गुजरी जी से हुआ था।

तेग बहादुर जी ने मानवता और हिंदू धर्म की रक्षा के लिए अपने जीवन और अपने भाइयों का बलिदान दिया था।

हम ऐसे महान व्यक्ति को नमन करते हैं और उनके दिखाए मार्ग पर चलने की पूरी कोशिश करेंगे और हमें गर्व है कि हमारे पूर्वजों ने धर्म और मानवता की रक्षा के लिए इतना बड़ा बलिदान दिया था।

पढ़ने के लिए धन्यवाद “Essay On Guru Tegh Bahadur Ji In Hindi In 500+ Words | गुरु तेग बहादुर जी पर निबंध हिंदी में “।

Read Also:

Essay On Journey Of Guru Tegh Bahadur Ji In 1000+ Words

Essay On Guru Tegh Bahadur Ji Life And Teachings In 350+ Words

Essay On Childhood Of Guru Tegh Bahadur Ji In 500+ Words

New Hollywood Movie In Hindi Dubbed Download Free

Leave a Comment