Essay On Freedom Struggle Of India In Hindi In 500+ Words

Essay On Freedom Struggle Of India In Hindi In 500+ Words

हेलो फ्रेंड, इस पोस्ट “Essay On Freedom Struggle Of India In Hindi In 500+ Words“ में, हम एक निबंध के रूप में भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के बारे में विस्तार से पढ़ेंगे। तो…

चलिए शुरू करते हैं…

Essay On Freedom Struggle Of India In Hindi In 500+ Words

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का भारत के इतिहास में बहुत महत्व है।

देश को अंग्रेजों की गुलामी से आजाद कराने के लिए पूरे भारत की जनता ने बहुत संघर्ष किया।

आजादी की खातिर हमारे महान स्वतंत्रता सेनानियों ने अपने जीवन की चिंता किए बिना हंसते हुए अपने प्राणों की आहुति दे दी।

अगर उस समय देशवासियों ने अंग्रेजों के खिलाफ आवाज नहीं उठाई होती तो शायद आज भी देश अंग्रेजों का गुलाम होता।

The Arrival Of British In India | भारत में अंग्रेजों का आगमन

प्रारंभ में ब्रिटिश, ईस्ट इंडिया कंपनी के नाम से व्यापार करने के उद्देश्य से वर्ष 1600 में भारत आए।

रेशम, चाय और कपास के व्यापार की आड़ में उसने भारत में अराजकता फैलानी शुरू कर दी और धीरे-धीरे देश को अपना गुलाम बना लिया।

और उसके बाद, अंग्रेजों ने पूरे देश का शासन अपने हाथों में ले लिया और भारतीयों पर अत्याचार करना शुरू कर दिया।

और इससे धीरे-धीरे देश में आजादी की मांग उठने लगी।

The Revolt Of 1857 | 1857 का विद्रोह

अंग्रेजों की तानाशाही से तंग आकर देशवासियों ने ब्रिटिश शासन को समाप्त करने का निर्णय लिया। और वर्ष 1857 में पहला स्वतंत्रता संग्राम एक भारतीय सैनिक मंगल पांडे ने शुरू किया था।

यह संघर्ष ब्रिटिश शासन के खिलाफ एक महान घटना थी। यह संघर्ष आकस्मिक नहीं था बल्कि पूरी सदी के असंतोष का परिणाम था।

1857 का विद्रोह जो मेरठ में सैन्य कर्मियों के विद्रोह के साथ शुरू हुआ, जल्द ही पूरे भारत में फैल गया और ब्रिटिश शासन के लिए एक गंभीर चुनौती बन गया।

इस संघर्ष में सैनिकों के साथ-साथ आम नागरिकों, देश की बड़ी रियासतों ने भी हिस्सा लिया। झांसी की रानी लक्ष्मी बाई ने अंग्रेजों के खिलाफ एक शानदार युद्ध लड़ा और अपनी सेना का नेतृत्व किया।

भारत के हिंदू, मुस्लिम, सिख और अन्य सभी बहादुर सपूतों ने अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी और देश से ब्रिटिश शासन को हटाने का संकल्प लिया।

इस क्रांति को 1 वर्ष के भीतर ब्रिटिश शासन द्वारा नियंत्रित किया गया था जो 10 मई 1857 को मेरठ में शुरू हुआ और 20 जून 1858 को ग्वालियर में समाप्त हुआ।

Also Read:

Essay On Freedom Struggle Of India In English

Essay On Azadi Ka Amrit Mahotsav In 500+ Words

Clean India Green India Essay In English | Essay On Clean India Green India

Indian Freedom Struggle During 1857-1947 | 1857-1947 के दौरान भारतीय स्वतंत्रता संग्राम

1857 की क्रांति के कारण ब्रिटिश शासन धीरे-धीरे लड़खड़ाने लगा।

एक के बाद एक अंग्रेजों के खिलाफ कई आंदोलन शुरू किए गए।

उस दौरान कई ऐसे आंदोलन हुए जिन्होंने भारत को आजादी दिलाने में अहम भूमिका निभाई।

सविनय अवज्ञा आंदोलन भी नमक पर ब्रिटिश एकाधिकार के खिलाफ शुरू किए गए इन प्रमुख आंदोलनों में से एक था।

इसकी शुरुआत 1930 में महात्मा गांधी के नेतृत्व में हुई थी, जिसकी शुरुआत गांधी जी के प्रसिद्ध दांडी मार्च से हुई थी।

इस बीच, भगत सिंह को सिर्फ 23 साल की उम्र में अंग्रेजों ने फांसी दे दी। लाला लाजपत राय की मृत्यु ने भगत सिंह को अंग्रेजों के खिलाफ लड़ने के लिए प्रोत्साहित किया।

भगत सिंह ने इसका बदला अधिकारी जॉन सैंडर्स की हत्या करके लिया और उन पर लाहौर षडयंत्र का मुकदमा भी चलाया गया।

और 23 मार्च 1931 की रात को भगत सिंह को सुखदेव और राजगुरु के साथ फांसी पर लटका दिया गया था। इसके बाद 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन शुरू हुआ।

इस आंदोलन ने भारत के लोगों को आशा की किरण दिखाई, लेकिन कठिन संघर्षों के बावजूद यह आंदोलन इतना सफल नहीं रहा। लेकिन इसने ब्रिटिश शासन की जड़ें हिला दीं।

इसी तरह सुभाष चंद्र बोस, बाल गंगाधर तिलक, चंद्रशेखर आजाद, सरदार वल्लभ भाई पटेल, पंडित जवाहरलाल नेहरू आदि जैसे कई स्वतंत्रता सेनानियों ने देश को स्वतंत्र बनाने के लिए बहुत संघर्ष किया।

जल्द ही ब्रिटिश शासकों ने एक समझौते पर हस्ताक्षर किए और भारत छोड़ने का फैसला किया और भारत को 15 अगस्त 1947 को स्वतंत्रता मिली।

इस तरह भारतीय सैनिकों के साथ-साथ स्वतंत्रता सेनानियों के कड़े संघर्ष के बाद देश को आजादी मिली। और आज़ादी के लिए कई स्वतंत्रता सेनानियों ने अपने प्राणों की आहुति दी थी।

Conclusion | निष्कर्ष  (Essay On Freedom Struggle Of India In Hindi)

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का इतिहास बहुत विशाल है। रॉलेट एक्ट, साइमन कमीशन, जलियांवाला बाग हत्याकांड आदि जैसी कई ऐसी घटनाएं जिन्होंने भारत की स्वतंत्रता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

स्वतंत्रता संग्राम से हम सभी को भी प्रेरणा लेनी चाहिए और देश के प्रति समर्पण की भावना हमेशा अपने मन में रखनी चाहिए।

इस पोस्ट “Essay On Freedom Struggle Of India In Hindi In 500+ Words“, को पढ़ने के लिए धन्यवाद।

Also Read:

Essay On Freedom Struggle Of India In English

Essay On Aatma Nirbhar Bharat In 1000+ Words

Top 5+ Essay On New Education Policy 2020

Leave a Comment